भारत और चीन की सीमा विवाद में पाकिस्तान और नेपाल की मीडिया ने क्या कहा?

भारत और चीन की सेना के बीच गलवान घाटी में हुई हिंसक झड़प के बाद पाकिस्तान और नेपाल की मीडिया ने क्या कहा?

Photo from social media

आइए जानते हैंं SCT NETWORKS के तरफ

पाकिस्तान की मीडिया

पाकिस्तान के लगभग हर अख़बार में इस ख़बर को अपनी पहली ख़बर बनाई है।

(1) पाकिस्तान के ENGLISH अख़बार डॉन ने यह ख़बर इस HEDLINE के साथ लगाई है:-(China has blamed India for the violent border confrontation.) सीमा पर हुए हिंसक टकराव के लिए चीन ने भारत को ज़िम्मेदार बतााया हैं।

(2) PAKISTAN TODAY  ने अपनी लीड स्टोरी की हेडलाइन में लीखी है:- 20 भारतीय फ़ौजी सीमा पर चीन के साथ हिंसक झड़प में मारे गए।

(3) पाकिस्तान के फ़ौज समर्थक अख़बार पाकिस्तान ऑबज़र्वर (PAKISTAN OBSERVER) ने लिखा हैै-: भारत ने चीन के साथ संघर्ष में अपनी नाक तुड़वाई।
(3) नवा-ए-वक़्त पाकिस्तान की उर्दू अख़बार  ने अनियंत्रित लहजे में लिखा है:- लद्दाख में चीनी फ़ौज पर हमला महंगा पड़ गया, कर्नल समेत बीस भारतीय फ़ौजी मारे गए।

(4)DAILY TIMES पाकिस्तान की अंग्रेजी अखबार  में लिखा है:- क्षेत्र में ख़तरे को कम करने के लिए तत्काल दोनों ही तरफ़ की सेना को पीछे हटने की ज़रूरत की बात कही है।
भारत और चीन की इस हिंसक में पाकिस्तान की ट्विटर पर पूरे दिन ये ख़बर ट्रेंड करती रही।

नेपाल की मीडिया

नेपाली की मीडिया में भी इस ख़बर को काफ़ी प्रमुखता से छापा गया हैै।

(1) नेपाल की अखबार कान्तिपुर ने अपने अख़बार के हेडलाइन में लिखी है:-20 भारतीय सैनिक की मृत्यु।
(2) नेमाल की अखबार काठमांडू पोस्ट की हेडालाइन में लिखा है:- भारत-चीन की सेना, हिमालय की सीमा पर भिड़ी दोनों ही तरफ़ जानें गईंं।

(3) नेपाल की प्रमुख टेलीविज़न चैनल कान्तिपुर टेलीविज़न:- ने इस ख़बर को प्रमुखता से दिखाया।
हाला की नेपाल की मीडिया में इस तनाव को लेकर चिंता देखी गई।

Leave a Comment

Your email address will not be published.